Paryatan Essay In Hindi

पर्यटन का महत्व

 पर्यटन का आनंद –

सैर कर दुनिया की गाफ़िल, ज़िंदगानी फिर कहाँ ?

जिंदगानी गर रही तो नौजवानी फिर कहाँ ?

     जीवन का असली आनंद घुमक्कड़ी में है ; मस्ती और मौज में है | प्रकृति के सौंदर्य का रसपान अपनी आँखों से उसके सामने उसकी गोद में बैठकर ही किया जा सकता है | उसके लिए आवश्यक है – पर्यटन |

पर्यटन के लाभ – पर्यटन का अर्थ है – घूमना | बस घुमने के लिए घूमना | आनंद-प्राप्ति और जिज्ञासा-पूर्ति के लिए घूमना | ऐसे पर्यटन में सुख ही सुख है | ऐसा पर्यटन दैनंदिन जीवन की भारी-भरकम चिंताओं से दूर होता है | जो व्यक्ति इस दशा में जितनी देर रहता है, उतनी देर तक वह आनंदमय जीवा जीता है |

     पर्यटन का दूसरा लाभ है – देश विदेश की जानकारी | इससे हमारा ज्ञान समृद्ध होता है | पुस्तकीय ज्ञान उतना प्रभावी नहीं होता जितना कि प्रत्यक्ष ज्ञान | पर्यटन से हमें देश-विदेश के खान-पान, रहान-सहन तथा सभ्यता-संस्कृति की जानकारी मिलती है | इससे हमारे मन में बैठ हुए कुछ अंधविश्वाश टूटते हैं | हमें यह विश्वास होता है – विश्व – भर का मानव मूल रूप से एक है | हमारी आपसी दूरियाँ कम होती हैं | मन उदार बनता है | पूरा देश और विश्व अपना-सा प्रतीत होता है | राष्ट्रिय एकता बढ़ाने में पर्यटन का बहुत बड़ा योगदान है |

पर्यटन : एक उद्दोग – वर्तमान समय में पर्यटन एक उद्दोग का रूप धारण कर चूका है  | हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर आदि पर्वतीय स्थलों की अर्थ-व्यवस्था पर्यटन पर आधारित है | वहाँ वर्षभर विश्व-भर से पर्यटक आते हैं और अपनी कमाई खर्च करते हैं | इससे ये पर्यटक-स्थल फलते-फूलते हैं | वहाँ के लोगों को आजीविका का साधन मिलता है |

पर्यटन के प्रकार – पर्यटन-स्थल अनेक प्रकार के हैं | कुछ प्रकृतिक सौंदर्य के लिए विख्यात हैं | जैसे-प्रसिद्ध पर्वत-चोटियाँ, समुद्र-तल, वन-उपवन | कुछ पर्यटन-स्थल धर्मित महत्व के हैं | जैसे हरिद्वार, वैष्णो देवी, काबा, कर्बला आदि | कुछ पर्यटन-स्थल एतेहासिक महत्व के हैं | जैसे लाल किला, ताजमहल आदि | कुछ पर्यटन-स्थल वज्ञानिक, सांस्कृतिक या अन्य महत्व रखते हैं | इनमें से प्राकृतिक सौंदर्य तथा धार्मिक महत्व के पर्यटन-स्थलों पर सर्वाधिक भीड़ रहती है |

June 27, 2016evirtualguru_ajaygourHindi (Sr. Secondary), Languages2 CommentsHindi Essay, Hindi essays

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

पर्यटन एक ऐसी यात्रा (travel) है जो मनोरंजन (recreational) या फुरसत के क्षणों का आनंद (leisure) उठाने के उद्देश्यों से की जाती है। विश्व पर्यटन संगठन (World Tourism Organization) के अनुसार पर्यटक वे लोग हैं जो "यात्रा करके अपने सामान्य वातावरण से बाहर के स्थानों में रहने जाते हैं, यह दौरा ज्यादा से ज्यादा एक साल के लिए मनोरंजन, व्यापार, अन्य उद्देश्यों से किया जाता है, यह उस स्थान पर किसी ख़ास क्रिया से सम्बंधित नहीं होता है। पर्यटन दुनिया भर में एक आरामपूर्ण गतिविधि के रूप में लोकप्रिय हो गया है। २००७ में, ९०३ मिलियन से अधिक अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के आगमन के साथ, २००६ की तुलना में ६.६ % की वृद्धि दर्ज की गई। २००७ में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक प्राप्तियां USD ८५६ अरब थी।[1] विश्व अर्थव्यवस्था में अनिश्चितताओं के बावजूद, २००८ के पहले चार महीनों में आगमन में ५ % की वृद्धि हुई, यह २००७ में समान अवधि में हुई वृद्धि के लगभग समान थी।[1]

कई देशों जैसे इजिप्ट, थाईलैंड और कई द्वीप राष्ट्रों जैसे फिजी के लिए पर्यटन बहुत महत्वपूर्ण है, क्यों कि अपने माल और सेवाओं के व्यापार से ये देश बहुत अधिक मात्रा में धन प्राप्त करते हैं और सेवा उद्योग (service industries) में रोजगार के अवसर पर्यटन से जुड़े हैं। इन सेवा उद्योगों में परिवहन (transport) सेवाएँ जैसे क्रूज पोत और टैक्सियाँ, निवास स्थान जैसे होटल और मनोरंजन स्थल और अन्य आतिथ्य उद्योग (hospitality industry) सेवाएँ जैसे रिज़ोर्ट शामिल हैं।

महत्व[संपादित करें]

भारतीय प्राच्य ग्रंथों में स्पष्ट रूप से मानव के विकास, सुख और शांति की संतुष्टि व ज्ञान के लिए पर्यटन को अति आवश्यक माना गया है।

हमारे देश के ऋषि मुनियों ने भी पर्यटन को प्रथम महत्व दिया है। प्राचीन गुरुओं (ब्राह्मणों, ऋषि - तपस्वियों) ने भी यह कह कर कि "बिना पर्यटन मानव अन्धकार प्रेमी होकर रह जायेगा।" पाश्चात्य विद्वान् संत आगस्टिन ने तो यहाँ तक कह दिया कि "बिना विश्व दर्शन ज्ञान ही अधुरा है।" पंचतंत्र नामक भारतीय साहित्य दर्शन में कहा गया है "विधाक्तिम शिल्पं तावन्नाप्यनोती मानवः सम्यक यावद ब्रजति न भुमो देशा - देशांतर:।"

परिभाषा[संपादित करें]

Hunziker और Krapf ने, सन् १९४१ में पर्यटन को इस प्रकार से परिभाषित किया "पर्यटन गैर निवासियों की यात्रा और उनके ठहरने से उत्पन्न सम्बन्ध और प्रक्रियाओं का योग है, ये लोग यहाँ स्थायी रूप से निवास नहीं करते हैं और यहाँ पर कमाई की किसी गतिविधि से नहीं जुड़े हैं"[6] १९७६ में, इंग्लैंड की पर्यटन सोसायटी ने इसे निम्नानुसार परिभाषित किया" पर्यटन लोगों का किसी बाहरी स्थान पर अस्थायी और, अल्पकालिक गमन है, पत्येक गंतव्य स्थान में ठहरने के दोरान पर्यटक सामान्यतया यहाँ रहते हैं और काम करते हैं। इसमें सभी उद्देश्यों के लिए गमन शामिल है।"In १९८१, इंटरनेशनल असोसिएशन ऑफ़ साईंटिफिक एक्सपर्ट्स इन टूरिज्म[7] ने पर्यटन को घर के वातावरण के बाहर चयनित विशिष्ट गतिविधि के रूप में परिभाषित किया।

संयुक्त राष्ट्र ने १९९४ में पर्यटन आंकडों के अनुसार इसे तीन रूपों में वर्गीकृत किया: घरेलू पर्यटन, जिसमें किसी देश के निवासियों की केवल उनके देश के अन्दर यात्रा शामिल है, इनबाउंड पर्यटन जिसमें गैर निवासियों की किसी देश में यात्रा शामिल है; और आउटबाउंड पर्यटन, जिसमें निवासियों की दूसरे देश में यात्रा शामिल है।

संयुक्त राष्ट्र ने पर्यटन के तीन बुनियादी रूपों को मिलाकर इसकी तीन विभिन्न श्रेणियां व्युत्पन्न की, ये हैं; घरेलू पर्यटन, इनबाउंड पर्यटन और राष्ट्रीय पर्यटन. जिसमें घरेलू पर्यटन, आउटबाउंड पर्यटन; और अंतरराष्ट्रीय पर्यटन शामिल है, जो इनबाउंड पर्यटन और आउटबाउंड पर्यटन से बना है।इंट्राबाउंड पर्यटनकोरिया पर्यटन संगठन (Korea Tourism Organization) के द्वारा दिया गया एक शब्द है और इसे कोरिया में व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता हैं। इंट्राबाउंड पर्यटन, घरेलू पर्यटन से नीतिनिर्माण प्रक्रिया तथा राष्ट्रीय पर्यटन नीतियों के कार्यान्वयन में भिन्न है।

हाल ही में, पर्यटन उद्योग इन बाउंड पर्यटन से इंट्राबाउंड पर्यटन की और स्थानांतरित हो गया है क्योंकि कई देश इनबाउंड पर्यटन के लिए कठिन प्रतियोगिता का अनुभव कर रहे हैं। कुछ राष्ट्रीय नीति निर्माताओं ने स्थानीय अर्थव्यवस्था में योगदान करने के लिए इंट्रा बाउंड पर्यटन को बढ़ावा देने को प्राथमिकता दी है। ऐसे कुछ उदहारण हैं; संयुक्त राज्य में "See America", मलेसिया में "Malaysia Truly Asia", कनाडा में "Get Going Canada" फिलीपींस में "Wow Philippines", सिंगापुर में "Uniquely Singapore", न्यूजीलैण्ड में "१००% Pure New Zealand" और भारत में "Incredible India" .

विश्व पर्यटन के आँकड़े और रैंकिंग[संपादित करें]

ऐसे देश जहाँ लोग सबसे ज्यादा घूमने जाते हैं।[संपादित करें]

विश्व पर्यटन संगठन (World Tourism Organization) निम्न १० देशों को अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की संख्या के आधार पर सबसे अधिक दौरा किए जाने वाले देश बताती है। २००६ की तुलना में, यूक्रेन और तुर्कीरूस, आस्ट्रिया और मेक्सिको को पीछे छोड़ते हुवे शीर्ष दस की सूची में प्रवेश कर गए हैं। सबसे अधिक दौरा किए जाने वाले देश यूरोपीय महाद्वीप में ही बने हुए हैं .

रैंकदेशमहाद्वीपअंतर्राष्ट्रीय
पर्यटक
आगमन
(२००७)[1]
इंटरनेशनल
पर्यटक
आगमन
(२००६)[8]
यूरोप८१९ लाख.७९१ लाख.
यूरोप५९२ लाख.५८५ लाख.
उत्तरी अमरीका५६० लाख.५११ लाख.
एशिया५४७ लाख४९६ लाख
यूरोप४३७ लाख४११ लाख
यूरोप३०७ लाखसंरेखण="दाएँ"
यूरोप२४४ लाख.२३१ लाख.
यूरोप२३१ लाख.१८९ लाख.
यूरेशिया२२२ लाख.१८९ लाख.
१०उत्तरी अमरीका२१४ लाख.२१४ लाख.

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन प्राप्ति[संपादित करें]

विश्व पर्यटन संगठन (World Tourism Organization) ने अपनी रिपोर्ट में निम्न १० देशों को २००७ के लिए शीर्ष के १० पर्यटन अर्जकों में शामिल किया है। यह ध्यान रखने योग्य बात है कि इनमें से अधिकांश यूरोपीय महाद्वीपमें हैं लेकिन अभी भी संयुक्त राज्य अमेरिका शीर्ष का अर्जक है।

क्रमदेशमहाद्वीपअंतर्राष्ट्रीय
पर्यटन
प्राप्तियां
(२००७)[1]
अंतर्राष्ट्रीय
पर्यटन
प्राप्तियां
(२००६)[8]
उत्तरी अमरीका९६.७ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|८५.७ अरब डॉलर
यूरोप५७.८ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|५१.१ अरब डॉलर
यूरोप५४.२ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|४६.३ अरब डॉलर
यूरोप४२.७ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|३८.१ अरब डॉलर
एशिया४१.९ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|३३.९ अरब डॉलर
यूरोप३७ .६ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|३३.७ अरब डॉलर
यूरोप३६.० अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|३२.८ अरब डॉलर
ओशिनिया२२.२ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|१७.८ अरब डॉलर
यूरोप१८.९ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|१६.६ अरब डॉलर
१०यूरेशिया१८.५ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|१६.९ अरब डॉलर

अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन के शीर्ष स्पेंडरस[संपादित करें]

विश्व पर्यटन संगठन (World Tourism Organization) के अनुसार निम्न १० देशों ने २००७ के लिए अंतरराष्ट्रीय पर्यटन पर सबसे अधिक खर्च किया है। एक पंक्ति में पांचवें साल के लिए, जर्मन पर्यटक सबसे ज्यादा खर्च करते हैं[1]Dresdner बैंक (Dresdner Bank) अध्ययन[9] का पूर्वानुमान है कि २००८ के लिए जर्मनी और यूरोप के लोग सबसे ज्यादा खर्च करने वाले रहेंगे क्योंकि अन्य गंतव्यों के पक्ष में यु एस के लिए अधिक मांग के साथ अमेरिकी डॉलर के विपरीत यूरो अधिक शक्तिशाली है।[10]

क्रमदेशमहाद्वीपअंतर्राष्ट्रीय
पर्यटन
व्यय
(२००७)[1]
अंतर्राष्ट्रीय
पर्यटन
व्यय
(२००६)[8]
यूरोप८२.९ अरब डॉलरसंरेखन="दांयें" |७३.९ अरब डॉलर
उत्तरी अमरीका७६.२ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|७२.१ अरब डॉलर
यूरोप७२.३ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|६३.१ अरब डॉलर
यूरोप३६.७ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|३१.२ अरब डॉलर
एशिया२९.८ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|२४.३ अरब डॉलर
यूरोप२७.३ अरब डॉलरसंरेखण="दाएँ"|२३.१ अरब डॉलर
एशिया

२६.५ अरब डॉलर

संरेखन="दांयें" |

२६.९ अरब डॉलर

उत्तरी अमरीका

२४.८ अरब डॉलर||संरेखण="दाएँ"|

२०.५ अरब डॉलर

यूरेशिया२२.३ अरब डॉलर

संरेखण="दाएँ"|१८.२ अरब डॉलर

१०एशिया२०.९ अरब डॉलर१८.९ अरब डॉलर

सबसे ज्यादा आकर्षक स्थान[संपादित करें]

Forbes Traveller ने २००७ में पर्यटन की दृष्टि से दुनिया के ५० सबसे अधिक आकर्षक देशों की सूची जारी की, जिसमें घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों ही प्रकार के पर्यटक शामिल हैं।[11] इस ५० की सूची में निम्न १० शीर्ष के आकर्षण हैं, उसके बाद कुछ अन्य प्रसिद्ध साईट्स हैं;[12] यह ध्यान देने योग्य बात है की शीर्ष ५ में से ४ और शीर्ष में से ६ उत्तर अमेरिका महाद्वीप में हैं .

ऐसे शहर जहाँ लोग सबसे अधिक घूमने आते हैं।[संपादित करें]

Euromonitor ने २००६ में अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के द्वारा दुनिया में सबसे ज्यादा घूमे जाने वाले १५० देशों के क्रम को जारी किया।[5] Euromonitor के क्रमांकन के अनुसार निम्न १५ प्रमुख शहर हैं;

२००६ में अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के द्वारा सबसे अधिक दौरा किए जाने वाले शहर[5]
१५ शीर्ष के शहरों का क्रम
शैली = " पृष्ठभूमि : # ABCDEF ; "शहर !!शैली = " पृष्ठभूमि : # ABCDEF ; "|देश!!शैली = " पृष्ठभूमि : # ABCDEF ; "|
intl . आगंतुक
की संख्या (लाखों)
क्रमांकनशहरदेश
intl . आगंतुक
की संख्या (लाखों)
क्रमांकनशैली = " पृष्ठभूमि : # ABCDEF ; "शहर !!शैली = " पृष्ठभूमि : # ABCDEF ; "
intl . आगंतुक
की संख्या (लाखों)
लंदन१५.६४न्यूयॉर्क शहरसंरेखण=बाएँ६.२२११डबलिन (Dublin)संरेखण=बाएँ|४.४७
बैंकॉक१०.३५दुबई६.१२१२बहरीन४.४२
पेरिस९.७०रोम६.०३१३शंघाई (Shangai)४.३१
सिंगापुर९.५०सियोल४.९२१४टोरंटो (Toronto)४.१६
हांगकांग८.१४१०बार्सिलोना४.६९१५कुआलालंपुर४.१२

इतिहास[संपादित करें]

धनी लोगों ने हमेशा दुनिया की बड़ी इमारतों और कलाकृतियों को देखने के लिए दुनिया के दूर दूर के क्षेत्रों तक यात्रा की है, ऐसा वे नई भाषाएँ जानने (learn new languages), संस्कृतियों का अनुभव करने के लिए, और नए और अलग स्वाद के व्यंजनों (cuisine) को चखने के लिए करते आए हैं। बहुत पहले रोमन गणराज्य (Roman Republic) के समय में कुछ स्थान जैसे Baiae (Baiae) अमीर लोगों के लिए लोकप्रिय तटीय रिसोर्ट थे।

शब्द पर्यटन का प्रयोग १८११ में किया गया और पर्यटक का १८४० में.[13] १९३६ में लीग ऑफ नेशंस (League of Nations) ने विदेशी पर्यटकों को ऐसे व्यक्तियों के रूप में परिभाषित किया जो कम से कम चौबीस घंटे के लिए विदेश यात्रा करते हैं। उत्तराधिकारी, संयुक्त राष्ट्र ने इस परिभाषा में १९४५ में संशोधन किया और इसमें अधिकतम ६ माह का प्रवास शामिल कर दिया.[14]

पूर्व बीसवीं शताब्दी[संपादित करें]

ऐसा कहा जा सकता है कि यूरोपीय पर्यटन ने मध्ययुगीन तीर्थयात्रा को आरम्भ किया है।

यद्यपि कैंटरबरी कहानियों (Canterbury Tales) में बताया गया है कि तीर्थयात्री प्रारंभिक रूप से धार्मिक कारणों से यात्रा पर जाते थे, फ़िर भी इसे अवकाश (holiday) माना गया है (शब्द holiday ख़ुद 'holy डे' अर्थात पवित्र दिन से व्युत्पन्न हुआ है जो फुर्सत के क्षणों से सम्बंधित है।) तीर्थ स्थान भी पर्यटन के पहलू से कई सुविधाएँ उपलब्ध कराते हैं जिसमें शामिल है- bringing back souvenirs, विदेशी बैंकों से ऋण की प्राप्ति, (मध्य काल में यहूदियों और Lombards (Lombards) ने अन्तर राष्ट्रीय नेटवर्क का उपयोग शुरू किया) और परिवहन के उपस्थित रूपों के आधार पर उपलब्ध स्थान का उपयोग शुरू किया गया (जैसे Vigo (Vigo) के लिए Santiago de Compostela (Santiago de Compostela) के तीर्थयात्रियों के द्वारा मध्यकालीन English wine ships bound का उपयोग).

आधुनिक पर्यटन में धार्मिक, धर्म निरपेक्ष और पवित्र तीर्थ स्थान अभी भी प्रचलित हैं-जैसे आयरलैंड में Lourdes (Lourdes) या knock (Knock), Père सिमेट्री Lachaise (Père Lachaise Cemetery) में जिम मोरिसन (Jim Morrison) की कब्र और Graceland (Graceland).

१७ वीं सदी के दौरान, इंग्लैंड में एक बड़ी यात्रा (Grand Tour) पर जाना फैशन बन गया।कुलीन (nobility) और भद्र (gentry) लोगों के पुत्र शैक्षणिक अनुभव के लिए यूरोप के दौरे पर पर भेजे जाते थे। १८ वीं शताब्दी बड़ी यात्रा के लिए स्वर्ण युग था और कई Pompeo Batoni (Pompeo Batoni) के द्वारा रोम में बहुत से फैशनेबल आगंतुकों को चित्रित किया गया है।बैकपेकर (backpacker) की आधुनिक यात्रा बड़ी यात्रा के समान ही है, हालांकि सांस्कृतिक अवकाश भी महत्वपूर्ण है जैसे स्वान हैलेनिक (Swan Hellenic) की पेशकश.

स्वास्थ्य पर्यटन[संपादित करें]

स्नान (Bath) में रोमन स्नान (Roman Baths) पर

स्वास्थ्य पर्यटन लंबे समय तक मौजूद रहा, लेकिन ऐसा अठारहवीं शताब्दी तक नहीं था कि यह महत्वपूर्ण बन गया। इंग्लैंड में यह स्पा (spa) से संबद्ध था, ऐसे स्थान जहाँ स्वास्थ्य कारी मिनरल जल (mineral water) दिया जाता था, गठिया (gout) से लेकर यकृत विकार और ब्रोन्काइटिस (bronchitis) जैसी बिमारियों का ईलाज किया जाता था। सबसे लोकप्रिय रिसॉर्ट् थे स्नान (Bath), चेल्टनहाम (Cheltenham), Buxton (Buxton), हैरोगेट (Harrogate) और Tunbridge वेल्स (Tunbridge Wells).'ऐसे जल स्थानों ' पर जाने वाले लोगों को गेंदों (balls) और अन्य मनोरंजक चीजों का उपयोग करने कि अनुमति दी जाती थी।Continental स्पा जैसे Carlsbad (Karlovy vary (Karlovy Vary)) ने उन्नीसवीं सदी के कई फैशनेबल यात्रियों को आकर्षित किया।

सृजनात्मक पर्यटन.[संपादित करें]

स्वयं पर्यटन की प्रारंभिक शुरुआत से लेकर निर्माणात्मक पर्यटन ने अपना अस्तित्व सांस्कृतिक पर्यटन (cultural tourism) के रूप में बनाये रखा है। यूरोप में लोगों को अपने पिछले समय की बड़ी यात्राओं (Grand Tour) की याद आई, जब कुलीन परिवार के पुत्रों को (ज्यादातर इंटरैक्टिव) शैक्षिक अनुभव के उद्देश्य से यात्रा पर भेजा जाता था। अभी हाल ही में, क्रिस्पिन रेमंड और ग्रेग रिचर्ड्स, के द्वारा निर्माणात्मक पर्यटन को अपना नाम दिया गया है, जो एसोसिएशन फॉर टूरिज़्म एंड लीज़र एजुकेशन के सदस्य हैं, इन्होने यूरोपीय आयोग (European Commission) के लिए कई परियोजनाओं को निर्देशित किया है, जिसमें सांस्कृतिक पर्यटन, या शिल्प पर्यटन स्थायी पर्यटन शामिल है (sustainable tourism).इन्होने "निर्माणात्मक पर्यटन" को मेजबान समुदाय की संस्कृति में यात्रियों की सक्रिय भागीदारी से सम्बंधित पर्यटन के रूप में परिभाषित किया है, जो अनौपचारिक शिक्षा और आपस में बैठकर की गई कार्य शालाओं के माध्यम से कार्यान्वित होती हैं।

साथ ही, "निर्माणात्मक पर्यटन" की अवधारणा को उच्च स्तरीय संगठनों जैसे उनेस्को (UNESCO) के द्वारा अपनाया गया है, जो क्रिएटिव शहर नेटवर्क (Creative Cities Network) के माध्यम से निर्माणात्मक पर्यटन को एक प्रामाणिक (authentic) अनुभव मानते हैं, यह एक स्थान (place) के विशेष सांस्कृतिक लक्षणों को सक्रीय रूप से समझने में मदद करता है।

मनोरंजन यात्रा[संपादित करें]

मनोरंजन यात्रा यूनाइटेड किंगडम के उद्योगीकरण से सम्बंधित थी;--यह पहला यूरोपीय देश था जिसने बढती हुई औद्योगिक जनसंख्या के मनोरंजन को बढावा दिया.प्रारम्भ में, यह मशीनरी के मालिकों के उत्पादन, कुलीन तंत्र की आर्थिक अवस्था, फैक्टरी के मालिक और व्यापारियों पर लागू हुआ .इसमें नया मध्यम वर्ग (middle class) शामिल है।कॉक्स एंड किंग्स (Cox & Kings) १७५८ में गठित हुई पहली आधिकारिक यात्रा कंपनी थी। बाद में, श्रमिक वर्ग (working class) फुरसत के समय का लाभ उठाने लगा.

ब्रिटिश मूल का यह नया उद्योग कई जगहों के नामों से परिलक्षित होता है। Nice, France में French Riviera (French Riviera) पर समुद्र के सामने सबसे पहले स्थापित होली डे रिसोर्ट Promenade des Anglais के नाम से जाना जाता है; यूरोप महाद्वीप (continental Europe) में कई अन्य ऐतिहासिक रिसोर्ट जो बहुत पुराने होटल हैं उनके नाम हैं होटल ब्रिस्टल, होटल कार्लटन या होटल मजेस्टिक जो अंग्रेजी ग्राहकों की प्रभाविता को प्रर्दशित करते हैं .

कई पर्यटक फुरसत में गर्मी और सर्दियों दोनों में कटिबंधों में जाते हैं। यह प्रायः क्यूबा, इस डोमिनिक गणराज्य, थाईलैंड, उत्तर क्वींसलैंड (North Queensland) ऑस्ट्रेलिया और फ्लोरिडा (Florida) में संयुक्त राज्य अमेरिका में किया जाता है।.

शीतकालीन पर्यटन[संपादित करें]

[[चित्|right|thumb| Matterhorn (Matterhorn) Zermatt के पास स्विस आल्प्स में (Swiss Alps).]] शीतकालीन खेलों (Winter sports) की खोज बड़े पैमाने पर ब्रिटिश स्वछंद वर्गों, के द्वारा की गई, प्रारम्भ में १८६४ में स्विस गांव जरमेट (Zermatt) (Valais (Valais)) और सेंट मोरित्ज़ (St Moritz) में इन्हे खोजा गया। पहले पेकेज्ड शीतकालीन अवकाश खेल (packaged winter sports holidays)१९०२ में एडलबोडन (Adelboden), स्विट्जरलैंड में हुए.शीतकालीन खेल इन स्वछंद लोगों के लिए एक प्राकृतिक जवाब था जो ठंडे मौसम के दौरान मनोरंजन की तलाशकर रहे थे।

मेजर स्की रिसॉर्ट् विभिन्न यूरोपीय देशों, कनाडा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, जापान, कोरिया, चिली और अर्जेंटीना के मुख्य भागों में स्थित हैं।

सामूहिक पर्यटन[संपादित करें]

जनसंचार यात्रा तकनीक में सुधार के साथ ही विकसित हो सकती थी जिसने बड़ी संख्या में लोगों को कम समय में घूमने के स्थानों पर परिवहन (transport) में मदद की, अब ज्यादा संख्या में लोग खाली समय का आनंद उठाने लगे.

संयुक्त राज्य अमेरिका में यूरोपीय शैली में, प्रथम महान समुद्र तटीय सैरगाह बनाया गया, यह अटलांटिक सिटी, न्यू जर्सी (Atlantic City, New Jersey) और लंबे द्वीप में था।

यूरोप महाद्वीप में, शुरुआती रिसोर्टों में शामिल थे, ऑस्टेन्ड (Ostend) (ब्रुसेल्स के लोगों के लिए

पेरिस और फ्रांस देश के[3][4] क्रमशः ऐसे स्थान रहें है जहाँ लोग सबसे ज्यादा घूमने जाते हैं।
लंदन, युरोमोनिटर के अनुसार २००६ में एक ऐसा शहर था जहाँ लोग सबसे ज्यादा घूमने जाते थे।[5]
द ग्रेट बाथ, विश्व के पहले स्वास्थ्य पर्यटन स्थलों में से एक है।

One thought on “Paryatan Essay In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *